Sunday, October 5, 2008

दो शब्द


मित्रों
हिचकचाते हुए हिन्दी ब्लॉग जगत में कदम रख रहा हूँ. हिचकिचाहट की कोई विशेष वजह नहीं बल्कि हर नए क्षेत्र में परवेश पर होने वाले नए के प्रति संशय और संकोच का मिश्रित भाव.प्रवेश यह सोच कर की विचारों को शब्द बध्ध औरों के लिए न सही तो अपने लिए तो किया जाय. अगर इन विचारों पर मित्रों की राय आए तो अति उत्तम.
विचारों का दायरा विस्तृत होगा.
हाँ इसमें बिहार के हर क्षेत्र पर मुक्त चिंतन का स्वागत होगा
सादर
दिनांक अक्टूबर ५, २००८.

.

2 comments:

शाश्‍वत शेखर said...

हिचकिचाने की क्या बात है, धकाद के लिखिए और बिहार के नाम रौशन कीजिये| हम आपके साथ हैं| ये ब्लॉग शुरू करने के लिए बहुत बधाई| हम भी कुछ ऐसा करने का हौसला रखते हैं, शुरू करेंगे तो आपको जरुर बताएँगे| लगे रहिये| जय बिहार|

शाश्‍वत शेखर said...

ye word verification hata den| Blogger ke dashbord - settings - comments- wahan par option hoga word verification hatane ka. Ise hataiyega to tippani karne wale ko suvidha rahegi| dhanyavaad|